chandravilla

विश्व गुरु बने मेरा भारत

309 Posts

13192 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 2711 postid : 765985

गंगा पुत्र क्या हुआ आपकी प्रतिज्ञा का (एक पाती प्रधानमंत्री जी के नाम)

Posted On: 24 Jul, 2014 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

2014_04_26_03_52_58_narendra-modi

मान्यवर प्रधानमंत्री जी,
सादर अभिवादन .
हम तो सर्वथा अकुशल से हैं पर हमें पूर्ण विश्वास हैं कि आप सकुशल, प्रसन्नचित्त होंगें , चित्र में दिख रही ये मुस्कान आपके चेहरे पर  आज भी है  पर दृढ़ता वो कहाँ खो गयी .   आपकी विजय से उल्लसित उस  जनता की  प्रसन्नता तो लुप्त होने लगी है जो आपकी इस दृढ़ता पर न्यौछावर थी.  आप तो  पैर फैला कर सो रहे होंगे अपने भव्य आवास में , हमारे देश के पूर्ववर्ती सत्ताधीशों की भांति जो बड़े बड़े वादे करके कुम्भकर्णी निंद्रा में शयन करते हैं.. जनता को भ्रमित करने के लिए जो परिश्रम रात-दिन आपने एक करके किया था उसका सुफल अब आप भोग रहे होंगें. आपके कुछ वादे -वचन स्मरण करा दे आपको जिनके धोखे में भोला मतदाता सदा ही ठगा जाता रहा है.
क्या करे देश का वो गरीब जो अच्छे दिनों की बाट जोहता हुआ निराशा भरी आँखों से फिर शून्य में ताकने को विवश हो रहा है ,,महंगाई, जिसने उसकी थाली से रोटी छीनी थी , उसकी आशावादिता की खिल्ली उडाने लगी है,, ये कहते हुए कि अभी भी तुम्हारा सपना भंग नहीं हुआ .कोई अच्छे दिन तुम्हारे नहीं आयेंगें ,जिनके अच्छे दिन आने थे,उनके आ गये .और वो अपनी उस जीत का उत्सव मना रहे हैं जो उन्होंने अपनी कर्मठता दिखाते हुए प्राप्त की थी.


माँ-बहिने पूर्व की भांति असुरक्षित ही हैं .आपकी सरकार से उनको जिन तारणहार कृष्ण की आशा थी ,वहा कोई भी कृष्ण नहीं, धृतराष्ट्र से भी बढ़कर गांधारी के समान अपनी आँखों पर पट्टी बाधें हैं,इतना ही नहीं उनकी तो वाणी को भी सत्ता की शहद मलाई ने चिपका दिया है, किसी के पास इतना समय ही नहीं कि पीड़ितों से मिल सके ,उनके घावों पर मरहम लगा सके यहाँ तक कि दो बोल भी बोल सके .उन नेताओं को सबक सीखा सकें जो कहते हैं उत्तरप्रदेश में बलात्कार कम होते हैं.
आप जब पिछली सरकार को कोसते थे,उनके सीमा पर गोलीबारी करने और उनके सिर काट लाने की बात करते थे ,तो हर देश भक्त इस आशा में था कि आपके हाथ में सत्ता सौंप कर कम से कम पाकिस्तान इस ओर मुहं उठाने का भी साहस नहीं कर सकेगा, पर पाकिस्तान उसके तो हौंसलें और बुलंद हैं निरंतर आतकवादियों की घुसपैठ भी जारी है और सीमा पर गोलीबारी भी जो हमारी निर्दोष सेना को झेलने पड़ रहे हैं. वो चीन जो सदा ही अपनी दादागिरी दिखाता रहा है आपके सत्तासीन होने पर अखंड भारत की बात करने वाले आप और आपकी स्पष्ट और देश हित की नीतियों के समक्ष अपने नापाक इरादों को दोहराने का साहस नहीं कर सकेगा.परन्तु लगता है उसको भी वो गीदड़ भभकियों मानता है और निश्चिन्त होकर पुनः पुनः अरुणांचल प्रदेश को अपने मानचित्र में दिखा रहा है .
स्विस और अन्य विदेशी बैंकों में जमा उस धन का क्या हुआ जिसके लौटाने की बात बार बार की जा रही थी जिसके आने की प्रतीक्षा सारा देश कर रहा था कि आगामी ३० वर्ष तक कर रहित बजट आयेगा..

बेचारे गौ भक्त अपनी गौ माता की रक्षा की गुहार लगा रहे हैं  आपसे उन्होंने  बहुत आशाएं  पाली थीं परन्तु कोई सुनवाई नहीं गौ प्रेमी  कृष्ण के इस देश में .

आपका वादा देश में भ्रष्टाचार का नामो-निशाँ नहीं रहेगा ,पारदर्शिता रहेगी सभी विभागों में , मानते हैं इतनी जल्दी उसका समूल नाश संभव नहीं ,परन्तु तनिक भी लगाम कसने का प्रयास नहीं दिख रहा है किसी भी क्षेत्र में.
आप गंगा के पुत्र हैं , याद है आपने गंगा के तट पर प्रतिज्ञा की थी पर वो गंगा और उसकी सभी बहिने भी निराश होने लगी हैं . आपको स्मरण है न गंगा पुत्र भीष्म ने अपनी प्रतिज्ञा का निर्वाह किस प्रकार किया था ,तो अब आप भी जागिये दो महीने का समय बहुत अधिक भले ही न हो परन्तु कुछ तो होता है .
समस्या रूपी आसुरी शक्तियां तो सारी की सारी सर पर खडी और आसुरी अट्ठाहस कर रही हैं मतदाताओं की बुद्धि पर और बेचारा मतदाता फिर यही सोच रहा है एक ओर कुआं ,दूजी ओर खाई ,मरना तो उसको ही है वो .कहाँ जाए ?
याद रखिये ये जनता है जिसने पूर्ववर्ती सरकार से त्रस्त होकर आशाओं को पालते हुए आप पर अपना विश्वास लुटाया , सर-आँखों पर बैठाया ,उसका मोह भंग होने से पूर्व ही चेत जाईये और उनकी आशाओं पर खरा उतरिये.
हम हैं…………. विश्व गुरु रहे भारत के अभागे मतदाता



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

32 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

R P Pandey के द्वारा
October 13, 2014

nisha ji , कांग्रेसी मानसिकता के लिए बधाई !वैसे ३१% logo ने ही मोदी पर विश्वास किया है , ६९ % राजनीती के कचरे इकट्ठा हो gaye है जो ओवल दर्जे के बेहया है / मोदी सीमा पर वह सब कर रहे है जो आज तक नहीं किया गया /पाकिस्तान चीन की बेहूदा हरकत करने की आदत है आवर आज तक ऐसा कोई aujaar नहीं बना है जो किसी के हरकत करने की आदत को रोक de /

yamunapathak के द्वारा
August 3, 2014

आदरणीय निशाजी मोदीजी के सोशल मीडिआ के प्रयोग पर कल किसी नेता ने टिप्पणी की है की सरकारी काम काज के लिए इतना प्रचार प्रसार उचित नहीं जब की कुछ इस एक बात पर मोदी जी की सबसे ज्यादा प्रसशा कर रहे हैं आप इस महत्वपूर्ण विषय पर का क्या मत है जानना चाहूंगी आपका यह ब्लॉग बहुत ही सशक्त आह्वान प्रस्तुत कर रहा है …पढ़ कर बहुत अच्छा लगा साभार

    nishamittal के द्वारा
    August 3, 2014

    यमुना जी बड़ा विचित्र सा परिदृश्य है.मीडिया का रोल जितना सकारात्मक होना चाहिए उतना होता नहीं और कभी कभी तो बहुत ही पक्षपात पूर्ण दीखता है कारण चैनल्स की पारस्परिक प्रतिस्पर्धा .प्रतिस्पर्धा यद्यपि विकास के लिए आवश्यक है परन्तु दुर्भाग्य से यहाँ VAH प्रतिस्पर्धा देखने को नहीं मिलती.दूसरी ओर कार्यक्रम प्रस्तुत कर्ताओं का पक्षपात पूर्ण रुख.शायद आपको स्मरण होगा की चुनाव से पूर्व आशु तोष जो कि स्वयं एक पार्टी विशेष से जुड़ेहोने के कारण उनका सम्पूर्ण फोकस उसी पार्टी के पक्ष में केंद्रित होता था. विकास संबंधित कार्यों को दिखाना अनुचित मेरे विचार से नहीं ,बशर्ते वो सटीक और यथार्थ पर आधारित हों क्योंकि जिस जनता ने चुना है उसको ज्ञात होना चाहिए कि उनकी आशाएं और आकांक्षाएं किस सीमा तक पूरी हो रही हैं.धन्यवाद

    nishamittal के द्वारा
    August 3, 2014

    नेट स्पीड के कारण सही ढंग से टाइप नहीं हो पाया यमुना जी

भंवर पंवार के द्वारा
August 2, 2014

आदरणीया निशा बहिनजी, आपकी बातों से सहमत हूँ तथा मोदीजी पर भारतीय जनता को विश्‍वास हैं लेकिन अब तक अच्‍छे फैसलें लेने की शुरूआत तो हो जानी चाहिए थी, जो अपेक्षित हैं, आशा करते हैं कि जल्‍दी ही अच्‍छे दिन आऐं,,,,,,,,,,,,,,,, 

    nishamittal के द्वारा
    August 3, 2014

    धन्यवाद भंवर जी समय देने के लिए

sudhajaiswal के द्वारा
July 31, 2014

आदरणीया निशा जी, आपकी बातों से सहमत हूँ मोदी जी ने जिस तरह से भरोया दिलाया था जनता को कि अच्छे दिन आयेंगे मगर ऐसे कार्य नजर नहीं आ रहे न ही भरोसा दिया जा रहा है, कोई जादू की छड़ी नहीं घूमा सकता पर शुरुआत तो दिखे|

    nishamittal के द्वारा
    July 31, 2014

    सहमती के लिए धन्यवाद सुधा

Jyoti के द्वारा
July 31, 2014

निशा जी, बहुत बढ़िया आलेख. सही है, भारत की जनता को मोदीजी पर पूरा वश्वास है लेकिन जनता को कुछ अच्छे फैसले, कुछ अच्छे काम होते हुए भी दिखना चाहिए.

    nishamittal के द्वारा
    July 31, 2014

    धन्यवाद ज्योति जी

Kamal Tyagi के द्वारा
July 30, 2014

ये न्यूज़ आर्टिकल जिस भी महान लेखिका ने लिखा है मैं उनकी उच्च सराहना करता हूँ जिन्होंने इतनी अच्छी बात इतने शालीन तरीके से कही है मैं यहाँ उल्लेख करना चाहता हूँ कि मैं खुद बचपन से भाजपा का अनन्य जन्मजात समर्थक रहा हूँ जबकि मैं कोई राजनैतिक व्यक्ति नही हूँ बल्कि अपने देश में कांग्रेस और उससे उत्पन्न उसी तरह की मुस्लिम तुस्टीकरण राजनीति करने वाली पार्टियों से मैं व्यथित था इसलिए राष्ट्रवादी भाजपा मुझे पसंद थी पर अब तो यही पार्टी पूर्ण बहुमत में राष्ट्र की केंद्रीय सत्ता पर विराजमान है उसमें भी नरेंद्र मोदी स्वयं प्रधानमंत्री है तब फिर आखिर क्या समस्या है उस नीच पाकिस्तान और चीन के क्या हिम्मत जो आज और ऐसी मजबूत परिस्थितियों में भी मेरे देश मेरे भारत पर बुरी नजर से देख रहें हैं उस हराम देश ने मेरे ही देश के सैनिको को बिना किसी पूर्व मन मुटाव के बिना कोई युद्धः छेड़े कैसे सियारों की तरह मार दिया और फिर कैसे मेरे प्रिय भारतवर्ष के ताकतवर प्रधानमंत्री अचानक कमजोर बन गए जो ऐसे आक्रांता को दंड नही दिया इस लेख को पढ़ने वाले कृपया विशिष्ट ध्यान दे मैं उसी मुज़फ्फरनगर का रहने वाला हूँ जहाँ के कवाल गांव में इसी तरह की मानसिकता से प्रेरित होकर उद्दंड मुसलामानों ने जाटों के लड़कियों के हाथ पकड़ कर छेड़खानी की कोशिश की थी याद रहे की मुज़फ्फरनगर लोकसभा सीट से भाजपा २०१४ से पहले इतने विशाल अंतर नही जीती है जितनी की इस बार २०१४ के आम चुनाव में जबकि खुद मेरी माँ भी एक स्त्री होते हुए दो वोट डालकर आई थी लेकिन देश की इससे अधिक परम दुर्भाग्य और क्या होगा कि अब तो इस देश को मुज़फ्फरनगर दंगों से पीड़ित हिन्दुओं को उनके हे देश में न्याय नही मिला अब तो बेचारे हिन्दुओं को भगवान कृष्णा ही बचा सकते है जिन्होंने अकेले अपने समय पर शक्तिशाली कौरवो को अनीति का पालन करने का दंड दिया था हे मेरे प्रभु श्री कृष्ण यदि मैंने आपकी सच्ची भक्ति के हो ,यदि मैं सच्चा भारतवासी हूँ और यदि मैं सच्चा हिन्दू हूँ तो प्रभु रक्षा करो जिस देश में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ,विश्व हिन्दू परिषद और भाजपा जैसी पूर्ण राष्ट्रवादी पार्टी और संगठन हों उस पर भी वही पार्टी जब पूर्ण बहुमत के साथ केंद्रीय नेतृत्व में हो और तब भी उस देश उस जगद्गुरु भारतवर्ष में ऐसा हो तब तो स्वयं भगवांन ही एकमात्र रक्षक हैं. धन्यवाद कथन- मैं साहसी लेखिका सहित समस्त दैनिक जागरण टीम को भी विशिष्ट साधुवाद देना चाहता हूँ जिन्होंने इतना क्रांतिकारी आर्टिकल अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर अपलोड किया.फिलहाल मैं आपके इस अभिनंदनीय लेख पर प्रतिक्रिया स्वरूप अपना ये सन्देश भेज रहा हूँ.मेरा दैनिक जागरण की समस्त सम्मानित टीम से सविनय विनम्र निवेदन है कि आप राष्ट्रहित में भारतमाता की पुकार पर मेरे इस सन्देश एवं प्रतिक्रिया को कृपा करके अपनी वेबसाइट और आपके सम्मानित समाचार पत्र में अवश्य निकालें.आपके अति कृपा होगी. विशिष्ट अनुरोध- समस्त सम्माननीय पाठकगणों ये उपरोक्त सन्देश इ-मेल मैं कॉपी पेस्ट करके भाजपा ,राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और विश्व हिन्दू परिषद और बजरंग दाल को उनके आधिकारिक इ-मेल आई डी पर भेज रहा हूँ यदि आज इस सन्देश को भी पढ कर भाजपा और संघ नही चेता तो फिर इस देश में मैं या सम्बंधित लेख की लेखिका श्रीमती निशा मित्तल जी तो क्या कोई भी राष्ट्रवादी भाजपा को वोट नही देगा.क्योंकि भाजपा की आलावा तो हमारे देश में कोई पूर्ण राष्ट्रवादी पार्टी है ही नही और जब भाजपा से लोई कुछ नही बोला तो कोई दूसरा क्यों कुछ कहेगा.उत्तराखंड की विधान सभा के हालिया उपचुनाव भाजपा के लिए खतरे के जबरदस्त घंटी हैं क्योंकि यहाँ हिन्दू जनाधिक्य है अगर यहाँ भी पार्टी ऐसा प्रदर्शन करेगी तो उत्तर प्रदेश आंध्र प्रदेश जैसे राज्यों में क्या होगा मेरा सविनय आपसे विनम्र निवेदन है कि कृपया विचार करें. धन्यवाद. आपका, कमल त्यागी. यदि इस सन्देश को पढने वाले कोई भी सम्मानित पाठकगण मुझसे संपर्क करना चाहते हों तो कृपया संपर्क करें- फ़ोन नंबर- 08532809719,09152265559. मेरी इ-मेल आई डी-त्यागी.कमल१९०@जीमेल.com

    nishamittal के द्वारा
    July 30, 2014

    आदरणीय कमल त्यागी जी ,आपकी सहमति हेतु आभारी हूँ ,आपका आक्रोश आपकी पीड़ा को अभिव्यक्त करता है .निश्चित रूप से जहाँ आशा अधिक होती है,अपेक्षाएं बढ़ती हैं और अपेक्षा पूर्ण होने पर आक्रोश उपजता है.मेरा विश्वास तो भंग नहीं हुआ ,क्योंकि मेरा मानना है कि शायद मोदी जी कहीं दूर की सोच रहे हों जहाँ तक मेरी बुद्धि की पहुँच न हो,क्योंकि जो व्यक्ति इतनी बड़ी बाज़ी जीत सकता है ,वो आम जनता जिन्होंने उनको सर आँखों पर बैठाया उनकी चिंता से वो परिचित हों ऐसा संभवतः नहीं होगा. हाँ इतना अवश्य है कि दीर्घ कालीन योजनाओं को पूर्ण करने में समय लगेगा अवश्य लेकिन जो समस्याएं तुरंत एक्शन लेने की और एक कड़ा सन्देश देने की हैं उन पर कार्यवाही और कार्यवाही का प्रयास परमावश्यक है.आपका आभार,हमारी आपकी सभी की आकांक्षाएं पूर्ण हों ऐसी पर्भु से प्रार्थना

    yogi sarswat के द्वारा
    July 30, 2014

    पढ़ते पढ़ते वापस आपके लेख पर आ गया आदरणीय निशा जी , और कमल जी की प्रतिक्रिया देखि ! कमल जी , मुजफ्फरनगर में जो हुआ बहुत ही सुनियोजित था और बहुत दर्दनाक भी ! ये सिर्फ मुजफ्फर नगर तक सीमित नहीं है , ये बीमारी हिंदुस्तान से लेकर अफगानिस्तान , इराक , लीबिया से लेकर इस्रायल तक है ! हमारे उत्तर प्रदेश की सरकार ने जब अपनी आँखें बंद कर ली हों तब ऐसे लोगों को और भी ज्यादा प्रोत्साहन मिलता है ! मैं सहमत हूँ आपसे की नरेंद्र मोदी को भारत की जनता ने पूर्ण बहुमत भारत में बदलाव के लिए दिया है लेकिन अभी तक ऐसा कुछ नजर नहीं आता , फिर भी मैं भरोसे के साथ कह सकता हूँ की पांच साल बाद जब उनकी सरकार की विवेचना होगी तब शायद मनमोहन सरकार की तरह आपको और मुझे निराशा नहीं होगी !

    nishamittal के द्वारा
    July 30, 2014

    योगी जी पुनः पधारने के लिए आभार.

priti के द्वारा
July 29, 2014

बहुत ही सटीक और सार्थक पोस्ट ! बधाई निशा जी …

    nishamittal के द्वारा
    July 30, 2014

    धन्यवाद प्रीती जी

yamunapathak के द्वारा
July 29, 2014

aadarneeya nishaajee blog poora padha maine yahee kahungee kaaraj dheere hot hai ….modee ji kuch achhaa hee karenge ….

    nishamittal के द्वारा
    July 29, 2014

    यमुना जी शायद आप जानती हैं कि मैं मोदी समर्थक हूँ और उनकी कर्मठता की प्रशंसिका भी परन्तु कुछ एक्शंस की अविलम्ब जरुरत है और उनके लिए ही मैंने लिखा है लांग टर्म योजनाओं का तो जिक्र भी नहीं किया धन्यवाद

B.N.Pal के द्वारा
July 29, 2014

एक दिन मैं तिरी पर वहिस्त कब उतरा. उमंग, उत्साह, आशा शुन्य तुम अपनी नकारात्मक सोच के लिए भर्त्सना की पात्र हो. तुम केवल इतना बताओ कि मोदी जी के स्थान पर अगर तुम होती तो इतने दिन मैं तुम क्या कर लेती जो उन्होंने ने नहीं किया.

    nishamittal के द्वारा
    July 29, 2014

    महोदय ,आपका आक्रोश युक्त पोस्ट मुझको अच्छा लगा ,क्योंकि आपकी तरह मैं भी मोदी समर्थक हूँ परन्तु अपेक्षाएं होती हैं अपनों से उन्होंने जो किया उसके अतिरिक्त भी उत्तरप्रदेश के बेकाबू होते हालात,महिलाओं की सुरक्षा पर कुछ कठोर कदम की आवश्यकता है आप मेरी ब्लॉग की लिस्ट में पढ़िए “सिंहासन खाली करो कि जनता आती है.आभार

Ravinder kumar के द्वारा
July 28, 2014

निशा जी, नमस्कार . मुझे पूरी उम्मीद है के आपका पत्र मोदी जी को जागृत करेगा. अबतक तो मोदी मनमोहन का दूसरा अवतार ही लग रहे हैं. दो महीने से चुप्पी की चादर ओढ़े मोदी शायद आपकी पाती पढ़ कर जाग जाएँ.

    nishamittal के द्वारा
    July 29, 2014

    नमस्कार रविन्द्र जी मैं ये कभी नहीं कहती दो माह में आज़ादी के बाद की प्रोब सुलझ जायेंगी लेकिन वर्तमान परिप्रेक्ष्य में घटित घटनाओं पर प्रतिक्रिया एक्शन चाहिए .धन्यवाद

nishamittal के द्वारा
July 27, 2014

धन्यवाद महोदय

Rajesh Dubey के द्वारा
July 26, 2014

चेतावनी भरी पाती से मान्यवर प्रधानमंत्री जी, को सचेत हो जाना है. यह जनता की पाती है.

    nishamittal के द्वारा
    July 26, 2014

    धन्यवाद राजेश दुबे जी

sadguruji के द्वारा
July 25, 2014

आदरणीया बहुत विचारणीय लेख,परन्तु इस सरकार को कम से कम एक साल का समय देना चाहिए ! पूरे देश का ही सिस्टम भ्रस्ट है,उसे ठीक करने में कुछ समय लगेगा !

    nishamittal के द्वारा
    July 26, 2014

    मान्यवर सद्गुरु जी,आपकी भांति मैं भी मोदी समर्थक ही हूँ ,मेरा मानना है कि निश्चित रूप से कोई जादू की छड़ी नहीं जो सम्पूर्ण समस्याओं को एक दम दूर कर दें परन्तु मूलभूत समस्याओं के निवारणार्थ सार्थक कदम त्वरित गति से उठाये जाने जरुरी है ये पत्र स्मरण कराये जाने के लिए है

Santlal Karun के द्वारा
July 25, 2014

आदरणीया निशा जी, यह पत्र अत्यंत आवश्यक, समय- सापेक्ष और उपयुक्त है | यह देश की दशा के अनुसार पूर्णत: संवेदनात्मक, आशा-निराशा के अनुरूप भावों-विचारों, तथ्यों आदि का संवाहक तथा मर्मवेधी है | गंगा-आरती का जैसा जलवा विभिन्न चैनलों से प्रसारित किया गया था और वादों आदि से जैसा लगा था कि कम-से-कम महिलाओं के साथ दुराचार-बलात्कार, आम सड़कों पर चोरी-छिनताई, देश के भीतर आतंकवादियों का नंगा नाच, सीमा पर पाकिस्तान और चीन की दादागीरी, बढ़ती महंगाई आदि पर काफी-कुछ अंकुश लग जाएगा, वैसा कुछ नहीं हुआ और नकारात्मक शक्तियाँ अपने-अपने धंधे में उसी तरह सक्रिय हैं | … पीड़ित-लाचार जनता के दर्द-आह भरे संदेशों को बेहतरीन तरीके से इस चिट्ठी में व्यक्त करने के लिए हार्दिक साधुवाद एवं सद्भावनाएँ !

    nishamittal के द्वारा
    July 25, 2014

    आदरनीय संतलाल जी सादर अभिवादन आपकी विचारपूर्ण सकारात्मक प्रतिक्रिया प्राप्त कर सुखद लगा.ये सत्य है कि समस्याएं बहुत हैं और इतने कम समय में उन पर पार पाना इतना शीघ्र संभव नहीं परन्तु उस ओर प्रयास निरन्त तो दिखें .आभार

yogi sarswat के द्वारा
July 25, 2014

माँ-बहिने पूर्व की भांति असुरक्षित ही हैं .आपकी सरकार से उनको जिन तारणहार कृष्ण की आशा थी ,वहा कोई भी कृष्ण नहीं, धृतराष्ट्र से भी बढ़कर गांधारी के समान अपनी आँखों पर पट्टी बाधें हैं,इतना ही नहीं उनकी तो वाणी को भी सत्ता की शहद मलाई ने चिपका दिया है, किसी के पास इतना समय ही नहीं कि पीड़ितों से मिल सके ,उनके घावों पर मरहम लगा सके यहाँ तक कि दो बोल भी बोल सके .उन नेताओं को सबक सीखा सकें जो कहते हैं उत्तरप्रदेश में बलात्कार कम होते हैं.बहुत कुछ है कहने को , आदरणीय निशा जी मित्तल ! लेकिन लोग रोक देते हैं की बदलाव जरूर आएगा , थोड़ा इंतज़ार करो ! हथेली पर सरसों नही उगाई जा सकती , सच बात है ! उम्मीद मुझे भी है और दिल के किसी कोने में आपके और अन्य लोगों के भी ये बात है की मोदी कुछ करेगा जरूर लेकिन कुछ ऐसे विषय हैं , जीनो आपने भी उठाया है , जहां तत्काल निर्णय लिए जाने चाहिए जैसे महिला सुरक्षा और महंगाई ! ठीक बात है की हमें एटॉमिक एनर्जी की जरुरत है लेकिन ये लम्बे वक्त की योजना है , ठीक है हमें आर्थिक स्थिति सुधारनी है लेकिन अभी ये भी लम्बी अवधि की बात है , तो जो काम समय में किया जा सकता है , उसे करना ही चाहिए ! सैम सामायिक और सभी लोगों की चिंताओं को शामिल करता बेहतरीन आलेख !

    nishamittal के द्वारा
    July 25, 2014

    पूर्णतया सहमत योगी जी,आपकी प्रतिक्रिया से ,घर में सब भूखे हो तो भले ही एक डैम खाना सामने न आये कम से कम प्रयास तो दिखना चाहिए .फिलहाल ऐसा दृश्य नहीं है संभवतः कुछ लांग टर्म योजना हो परन्तु पहले छोटे छोटे अनिवार्य प्रोजेक्ट्स पर कार्य होना जरुरी है ,धन्यवाद

jlsingh के द्वारा
July 25, 2014

आदरणीया, सादर अभिवादन! आपने सब के मन की बात कह दी है …आशा है सोसल मीडिया को महत्व देने वाले प्रधान मंत्री इस तरह के आलेखों, टिप्पणियों पर ध्यान देते होंगे या विदेश यात्रा में अपने सूट बूट का प्रभाव जमाने में कामयाबी दिखला रहे होने. ब्रिक्स बैंक की स्थापना, और विश्व बैंक से कर्ज तो मिले ही हैं. स्विस बैंक से कालाधन तो आने से रहा.. कल भाजपा के ही सांसद निशिकांत दुबे ने सांसद में वित्त मंत्री के सामने ही खुलासा कर दिया. धर्म के नाम पर विद्वेष फ़ैलाने की कोशिशें जारी है …जनता तो हमेशा से ठगी जाती रही है, यह कोई पहली बार तो नहीं हुआ है… योगी जी के साथ आपका भी आक्रोश झलका है, और झलकना/छलकना भी चाहिए. ..सादर!


topic of the week



latest from jagran