chandravilla

विश्व गुरु बने मेरा भारत

309 Posts

13192 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 2711 postid : 1138448

क्या सत्ता तक पहुंचेगी मेरी पुकार ?

Posted On: 12 Feb, 2016 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

कैसे कहूँ मेरा देश आज भी महान हैं,
जब उसमें पल रहे ऐसे शैतान हैं
,जो हिन्दुस्तान का खाते  हैं,यहाँ मौज मस्ती की जिन्दगी व्यतीत करते हैं,लेकिन हमारे देश भक्तों का अपमान करते हैं,आतंकवादियों का जय जय कार करते हुए पाकिस्तान का झंडा लहराते हैं,देश विरोधी नारे लगाते हैं.
आश्चर्य उन राजनैतिक दलों पर ,उनके सिपहसालारों पर जो देशद्रोहियों के मरने पर शोक मनाते हैं,देश की सम्पत्ति को क्षति पहुंचाते हैं,परन्तु ऐसी घटनाओं पर उनके होंठ सिल जाते हैं,चूं भी नही करते ,शायद गुप्त रूप से उत्सव मनाते हैं ,ऐसी देशद्रोही कार्यवाही पर .
किसी भी आतंकवादी को समर्थन देने को तत्पर रहना,उनके समर्थन में खड़े हो जाना ,निरंतर मीडिया पर हल्ला मचाना,विदेशों में जाकर उनके समर्थन में बयानबाजी करना आखिर किस महानता का परिचायक है ?
जवाहर लाल नेहरु विश्वविध्यालय में घटित घटना क्रम सरासर देश द्रोह का परिचायक है,जहाँ एक आतंकवादी को शहीद घोषित करते हुए  विशिष्ठ आयोजन हुआ,काश्मीर की स्वाधीनता के नारे लगे ,भारत की बर्बादी के और साथ ही मुर्दाबाद के भी .
इशरत जहाँ जिसको मीडिया ने  तथा विभिन्न राजनैतिक दलों ने भोली भाली देवी बताते हुए आसमान सर पर उठा रखा था ,अबसत्य सामने आने पर क्योँ मौन धारण कर लिया .?
पहली बार ऐसा नही हो रहा है,इससे पूर्व भी जब भी कोई आतंकी पकड़ा जाता है ,या आतंकवादी घटना होती है तो हमारे देश में ऐसे आस्तीन के सर्पों की कमी नही जो उनका विरोध या तो करते नही या दबे शब्दों में करते हैं .चाहे वह काश्मीर में बड़ी बड़ी आतंकवादी घटनाएँ हों ,,मुम्बई का आतंकी हमला,हेमंत करकरे जैसे शहीद की शहादत ,कसाब ,,अफज़ल गुरु जैसे दुर्दांत को फांसी..
इसके लिए मेरे विचार से मीडिया का नकारातमक दृष्टिकोण उत्तरदायी है ,क्यूंकि वो सदा ऐसे लोगों को महिमा मंडित करता है.साथ ही  उस समय सत्ता से बाहर राजनैतिक दल जिनके लिए उन लोगों का समर्थन ही मुख्य एजेंडा होता है .
सत्ता धारी दल या सरकार से सबसे अधिक आक्रोश ऐसे लोगों के लिए कड़ी सजा का प्रावधान क्योँ नही बनाया जाता जो देश द्रोही हैं,और ये भूल जाते हैं ,उनका ये  आतंकवाद या देश के शत्रुओं को समर्थन देना ही देश को विनाश के कगार पर ले जा रहा है.राजनीति का अर्थ देश का अहित तो नही होता  ,क्या ऐसी गतिविधियों से आतंकवाद को प्रोत्साहन नही मिलता

क्या  सत्ता तक पहुंचेगी मेरी पुकार ? मेरे विचार से देश हित में सरकार का सबसे बड़ा योगदान यही होगा  देशद्रोहियों के विरुद्ध कड़े क़ानून बनें और निष्पक्ष कार्यवाही हो तथा कड़े से कड़ा दंड मिले.

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

17 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

jlsingh के द्वारा
February 22, 2016

मेरे विचार से देश हित में सरकार का सबसे बड़ा योगदान यही होगा देशद्रोहियों के विरुद्ध कड़े क़ानून बनें और निष्पक्ष कार्यवाही हो तथा कड़े से कड़ा दंड मिले.- पूर्ण समर्थन आदरणीया … आपके आलेख पर देर से प्रतिक्रिया के लिए क्षमा चाहूँगा. पिछले दिनों मैं ग्रामीण प्रवेश में भ्रमण कर रहा था. हर सच्चा भारतीय आपके विचार से सहमत होगा.

yamunapathak के द्वारा
February 18, 2016

आभार निशा जी

    nishamittal के द्वारा
    February 19, 2016

    आभार आपका

harirawat के द्वारा
February 17, 2016

निशा मित्तल जी, नमस्ते ! व्यस्त जिंदगी की पगडंडियों में चलते चलते जब कोई मधुर गीत सुरीले कोयल की गले से बाहर निकलने लगती है तो वातावरण बसंतमय खूबसूरत बन जाता है वहीं जब देश की आन वां और शान पर इसी धरती की मिट्टी से जन्मे, इसी धरती के अन्न से फलते फूलते लोग आतंकी को शरण देते हैं या उसकी फांसी को कुर्वानी के नाम से संबोधित करके उसे शहीदी ताज पहिना देते हैं, साथ अपनी ही भारत माता का अपमान करने लगते हैं तो उन्हें जघन्य से जघन्य सजा दी जानी चाहिए, गद्दारी के लिए उन्हें फांसी भी कम पड़ेगी ! अच्छे लेख के लिए आप धन्यवाद के पात्र हैं ! लेखनी के लिए सैलूट १ हरेन्द्र एक फौजी जागते रहो !

    nishamittal के द्वारा
    February 18, 2016

    आपकी सुंदर ,सार्थक,सकारात्मक प्रतिक्रिया के लिए आभार हूँ रावत जी

एल.एस. बिष्ट् के द्वारा
February 17, 2016

आदरणीय निशा मित्तल जी जरूर पहुंचेगी सरकार तक आपकी आवाज । सही लिखा है आपने देशद्रोहियों के लिए सख्त कानून बने । यह तभी रूक सकता है वरना ऐसा होता रहेगा ।

    nishamittal के द्वारा
    February 17, 2016

    सहमति हेतु धन्यवाद बिष्ट JI

Bhola nath Pal के द्वारा
February 17, 2016

निशा जी ! ‘मेरे विचार से देश हित में सरकार का सबसे बड़ा योगदान यही होगा देशद्रोहियों के विरुद्ध कड़े क़ानून बनें और निष्पक्ष कार्यवाही हो तथा कड़े से कड़ा दंड मिले ”बिलकुल सही कहा आपने..

    nishamittal के द्वारा
    February 17, 2016

    धन्यवाद सहमति हेतु

OM DIKSHIT के द्वारा
February 16, 2016

आदरणीया निशा जी,नमस्कार. एकदम सही कहा आप ने.राजनीति का स्तर गिरता ही जा रहा है.

    nishamittal के द्वारा
    February 17, 2016

    आभार सहमति हेतु

rameshagarwal के द्वारा
February 16, 2016

जय श्री राम निशा जी बहुत अच्छी  भावनाए व्यक्त की हमारे राजनेता किस हद तक गिर सकते ये राहुल,केजरीवाल नितीश ने दिखा दिया इंग्लिश मीडिया राष्ट्र द्रोह के समर्थको के लेख ही देती कुछ टीवी डिबेट देख कर सर शर्म से झुक जाता ऐसी घटनाएं स्वतंत्रता सेनानियो और सैनिको का अपमान है जो देश के लिए शहीद हुए.हमने भी इस पर लेख लिखा था.इसके पीछे चर्च और सऊदी अरब का हाथ है और हमारे नेता अपना उल्लू सीधा करने में मदद कर रहे शर्म आती सरकार को त्वरित कार्यवाही के लिए धन्यवाद.

    nishamittal के द्वारा
    February 17, 2016

    नमस्कार अग्रवाल जी,सहमति हेतु आभार आपका लेख अवश्य पढूंगी

sadguruji के द्वारा
February 15, 2016

आदरणीया निशा मित्तल जी ! सादर अभिनन्दन ! अत्यंत सार्थक और विचारणीय लेख प्रस्तुत करने हेतु सादर आभार ! देशद्रोहियों की धरपकड़ हो रही है ! उनको संरक्षण देने वाले उनके देशी-विदेशी आकाओं के खिलाफ भी कड़ी कार्यवाही होनी चाहिए ! भाजपा अपनी राष्ट्रवादी पहचान के अनुरूप देशद्रोहियों के खिलाफ त्वरित और कड़ी कार्यवाही नहीं कर रही है ! यही हम सभी हिन्दुस्ताओं को खराब लग रहा है !

    nishamittal के द्वारा
    February 16, 2016

    आपका हार्दिक आभार ,इस दल में कुछ न कुछ लोग ऐसे अवश्य हैं ,जिनको बस वोट बैंक की चिंता है ,और निह्गित स्वार्थ भी ,जितनी भी कार्यवाही हुई उतनी भी न होती यदि कोई और दल सत्ता में होता बस इतना ही मानकर संतोष कर सकते हैं .

Shobha के द्वारा
February 13, 2016

प्रिय निशा जी बहुत समय बाद आपको ब्लॉग पर देखा जिस तरह आप JNU कैम्पस मैं देश विरोधी लगाये गए नारों से आप कुपित हैं आज सभी उद्वेलित हैं आपने हर शब्द से मैं सहमत हूँ मैं ही नहीं सभी पाठक भी

    nishamittal के द्वारा
    February 13, 2016

    आश्चर्य कमेन्ट के नीचे अनाप्रूव का आप्शन आ रहा है अप्रूव का नही ,आपका आभार


topic of the week



latest from jagran