chandravilla

विश्व गुरु बने मेरा भारत

309 Posts

13185 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 2711 postid : 1183414

शत्रुता निज जीवन से (अंतर्राष्ट्रीय तम्बाखू दिवस 31 मई)

Posted On: 30 May, 2016 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

अंतर्राष्ट्रीय तम्बाखू दिवस 31  मई पर एक आह्वान
Cigarette-2394 क्या विडंबना है ,एक ओर उसी सिगरेट के पैकेट पर लिखा हुआ सन्देश  पढते है सिगरेट पीना स्वास्थ्य के लिए हानिप्रद है,गुटखा खाने से कैंसर होता है,दूसरी ओर बहादुरी पुरस्कारों के लिए Red and white सिगरेट के तथा अन्य ब्रांड्स के   बड़े बड़े विज्ञापन देखते है जो वीरता पूर्ण कार्यों के लिए पुरस्कार देते हुए दिखाए जाते हैं,मानों इस सिगरेट को पीने वाले बहादुर होते हैं,और बहादुरी के कारनामे वो सिगरेट पीने के कारण ही कर पाते हैं.और ये विज्ञापन करते दिखाई देते हैं आज के युवा पीढ़ी के आइकन कहते हैं  इस सिगरेट को पीने वालों की बात ही कुछ और है.सिगरेट के  धुंए के छल्ले सार्वजनिक रूप से उड़ाते हैं shahrukh265_1337730095.हर बार माफी माँगना और पुनः पुनरावृत्ति .

हमारा संविधान भारत को एक कल्याणकारी राज्य घोषित करता है,सामान्य अर्थों में जिसका अर्थ है कि सरकार का कार्य केवल वाह्य आक्रमणों से देश की रक्षा करना और आंतरिक झगडों से देश वासियों की  रक्षा  करना ही नहीं,अपितु उनके कल्याण के लिए कार्य करना है.अतः जन चेतना जागृत करने के लिए सरकारी प्रयासों को बढाया जाना बहुत जरुरी है.

हम सभी जानते हैं कि तम्बाखू का प्रयोग जो हमारे देश में कोई नया नहीं है, और शायद कुछ सीमा तक उसको औषधी भी मानते हैं बुजुर्ग लोग,परन्तु कोई भी एक बार उसका सेवन प्रारम्भ करने पर उसका आदि हो जाता है. आज तो इस विष का प्रयोग इतने विविध रूपों में हो रहा है कि बच्चे,युवा,बच्चियां,युवती,युवक ,प्रौढ ,वृद्ध सभी आयु वर्ग के लोग किसी न किसी रूप में इस जहर को अपने शरीर में पहुंचा रहे हैं,चाहे ,बीडी,सिगरेट,गुटखा,,सिगार या नशे का कोई भी स्वरूप हो.सक्रिय रूप से इसकी गिरफ्त में तो भारत में लगभग 57 प्रतिशत पुरूष और 11 प्रतिशत महिलाएं तम्बाखू उत्पादों का सेवन करते हैं,कुछ राज्यों में तो पूरे देश की औसत से अधिक  तम्बाखू का सेवन हो रहा है.नेट के आंकड़ों के अनुसार तो  भारत में तम्बाखू से लगभग  8 हजार करोड़ रूपए का राजस्व प्राप्त होता है, जबकि तम्बाखू की वजह से होने वाली बीमारियों  के इलाज पर प्रतिवर्ष 30 हजार करोड़ रूपए खर्च होता है। यदि तम्बाखू के सेवन और इसके उत्पादन पर नियंत्रण किया जाता है तो लोगों के स्वास्थ्य के साथ ही अर्थव्यवस्था भी सुदृढ़ होगी। ।परन्तु हमारी कल्याणकारी सरकारों  को राजस्व की चिंता है जबकि उससे कई गुना अधिक  स्वास्थ्य सेवाओं पर व्यय हो रहा है,परन्तु इस विषय में चिंतन करने का समय किसी के पास नहीं , तम्बाखू लाबी  का बढ़ता वर्चस्व राजस्व और जनता के स्वास्थ्य से अधिक मूल्यवान है,क्योंकि मोटी कमाई होती है. और जनता ! वो तो बेखबर है सारी चेतावनियों के बाद भी,यही कारण ही कि तम्बाखू के आदि किसी न किसी रूप में सभी हो रहे हैं. cigret aur. धूम्रपान करने वाले स्वयम तो अपने शत्रु हैं ही ,समाज के भी शत्रु हैं क्योंकि उनके द्वारा छोड़ा गया धुआं  धूम्रपान न करने वालों को क्षति पहुंचाता है.

सिगरेट के बाद गुटखा एक आम शत्रु है जो प्रिय बन चुका है हर वर्ग का .इसका एक उदाहरण मेरा प्रत्यक्ष रूप से देखा हुआ है.

एक लडकी कि विवाह के पश्चात विदाई के समय उसके पर्स में प्राय कुछ अतिरिक्त धन विशेष रूप से रखे जाने की परम्परा हमारे देश के कुछ भागों में है. शायद उसका कारण ये रहा हो कि,ससुराल पहुँचने पर उसको कुछ रस्मों के नेग आदि देने होते हैं तथा कोई विशेष आवश्यकता होने पर उसको कोई कठिनाई न हो.विदाई की बेला में एक परिवार में मै उपस्थित थी,उस लडकी के पर्स में विशेष रूप से रखे गए,”पान पराग ” के पाऊच .बड़ा आश्चर्य हुआ जान कर कि उस लडकी के लिए “पान पराग” भोजन से भी अधिक आवश्यक था.

तम्बाखू के प्रयोग के संदर्भ  में भारत का स्थान विश्व में तीसरा है.नेट के आंकड़ों के अनुसार विश्व में तम्बाखू के कारण विश्व में लगभग  50 लाख  लोग काल का ग्रास बनते हैं,जिनमें 9 लाख के लगभग भारतीय हैं.सड़क चलते छोटे छोटे बच्चे,महिलाएं,वृद्ध,श्रमिक,कार्यालयों में कार्यरत कर्मचारी ,विद्यार्थी, धनी -निर्धन सभी इसकी गिरफ्त में हैं.वास्तविकता तो यह है कि मीठी फ्लेवर्ड सुपारी से शुरू होने वाली (जो कई बार माता-पिता ही बच्चों को खिलाते हैं) ये आदत धीरे धीरे बदल जाती है उस गुटखे में जिसमें तम्बाखू ,चूने,सुपारी के साथ अन्य ऐसे घातक पदार्थों का मिश्रण होता है,जो अन्य गंभीर रोगों के साथ मुख कैंसर के प्रमुख कारक हैं.lipcancer_cr
आज गुटखे की लोकप्रियता इतनी चरम पर है कि आप कहीं भी जाएँ आपको चाय ,फल या दैनिक आवश्यकता की अन्य वस्तुएं भले ही उपलब्ध न हों गुटखे के हार थोक में लटके हुए मिलेंगें.एक रुपया मूल्य से प्रारम्भ हो कर संभवतः 6-  7रुपया मूल्य तक के गुटखे बाज़ार में उपलब्ध हैं,इनके आदि पूरे समय इनको मुख में रखते हैं.
विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट के अनुसार आज विश्व में मुख कैंसर के सर्वाधिक पीड़ित भारत में हैं,इसका प्रमुख कारण है तम्बाखू का सेवन.हमारे देश में सिगरेट के माध्यम से तम्बाखू रूपी विष का सेवन करने वाले 20% ,बीडी के रूप में 40% तथा गुटखे या अन्य रूप से तम्बाखू के आदि 40% लोग हैं जो मुख कैंसर का प्रमुख जन्मदाता है.विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट के ही अनुसार हमारे देश में 65% पुरुष किसी न किसी रूप में तम्बाखू के आदि हैं.महिलाओं में यह संख्या राज्यों में अलग अलग है.मुंबई में धुंए रहित तम्बाखू का सेवन करने वाली महिलाओं का प्रतिशत 57.5% है.और धूम्रपान करने वाली महिलाओं के आंकडें तो बेहद चिंताजनक हैं.काल सेंटर्स के बाहर ,पार्टीज में या कुछ अन्य सार्वजनिक स्थानों पर जहाँ युवतियों को हम धूम्रपान करते खुले आम देखते हैं,श्रमजीवी वर्ग में तो महिलाएं काम के बाद बीडी का प्रयोग करती हैं,खैनी के रूप में गुटखे के रूप भी प्रयोग किया जाता है.हुक्का तो सबसे पुराना साधन है ही,पान में भी तम्बाखू का प्रयोग आम है.अतः धनाढ्य वर्ग हो , निर्धन वर्ग या फिर मध्यम सब ही प्रभावित हैं.
गुटखे का सेवन बच्चों में तो बढ़ने का प्रमुख कारण है ,परिवार वालों का डर. सिगरेट या बीडी पीने पर परिवार या अन्य लोगों का भय उन्हें गुटखे की ओर आकृष्ट करता है.फिर तो चाहे क्लास हो ,कार्यस्थल,सार्वजनिक स्थान या फिर घर,आराम से उसका सेवन किया जा सकता है.ऐसा नहीं कि गुटखा खाने वाले धूम्रपान नहीं करते.
धुआं रहित होने के कारण इसमें होने वाले हानिकारक तत्वों का ज्ञान ही नहीं हो पाता और जब तक ज्ञान होता है तब तक देर हो चुकी होती है,और कई गुटखा निर्माता तो अपने प्रोडक्ट में तम्बाखू होने की जानकारी छुपाते हैं.धीरे धीरे धूम्र रहित यह जहर अपने दुष्प्रभाव का जाल फैलता है,जिसकी शुरुआत प्राय होती है,मुख में होने वाले बड़े बड़े छालों से या किसी घाव से ,मुख नहीं खुल पाता,जीभ पर बाल उग जाते हैं, गले की गंभीर व्याधियां जकड लेती हैं और फिर प्राणघातक कैंसर के चंगुल से छूटना असंभव सा ही हो जाता है.दूरदर्शन पर जन चेतना कार्यक्रम वाले दृश्य देखकर मृत्यु का आलिंगन करने वाले या दुस्सह पीड़ा झेलने वाले युवाओं या बच्चों को देखकर हृदय द्रवित हो जाता है.
किसी भी व्यक्ति के भूरे दांतों को देखकर हम उसके गुटखा शौकीन होने का अंदाजा लगा सकते हैं,जिनको कितना भी प्रयास किया जाय साफ़ कर पाना सभव नहीं हो पाता.अच्छे से अच्छे होटल ,भव्य भवनों ,यहाँ तक कि सुन्दर ऐतिहासिक भवनों ,पर्यटन स्थलों और धार्मिक स्थलों की दीवारें भी आपको गुटखे की पीक (थूकने)से चित्रकारी करी हुई मिलेंगी..
इसके अत्यधिक सेवन का एक अन्य दुष्प्रभाव होता है,पाचन तंत्र को प्रभावित करने में ,जिसके चलते भूख नहीं लगती.ह्रदय रोग,फेफड़ों के रोग,दमा,मानसिक अवसाद आदि व्याधियां अपना शिकार बनाती हैं, और निर्धन कूड़ा बीनने वाले तथा अन्य अति निर्धन श्रेणी के लोगों को यह वरदान दिखाई देता है,क्योंकि इसके सेवन से उनकी भूख घट जाती है, और उनकी प्रमुख खुराक गुटखा बीडी और कई बार घटिया देसी शराब बन जाती है ,लीवर व गुर्दे विनष्ट हो जाते हैं ,और इसी के चलते उनके जीवन की अंतिम बेला आ जाती है,जिसमें उनके पास शायद पछताने के लिए भी समय नहीं होता.यह वर्ग तो अपना उपचार आदि करवाने में भी समर्थ नहीं होता न ही उसके लिए पौष्टिक आहार उपलब्ध रहता है.

समस्या तो विकराल है ही ,समाधान पर विचार करें तो चुटकियों का काम नहीं . नुक्कड़ नाटकों के रूप में दुष्प्रभाव समझाना ,विशेष प्रदर्शनी आदि के द्वारा सघन  जन चेतना अभियान चलाकर ऐसे ही प्रचार किया जाना ,जिस प्रकार पोलियो,या परिवार नियोजन आदि के विषय में जानकारी दी  जाती है,सार्थक भूमिका का निर्वाह कर सकता है.
इस संदर्भ में सबसे अधिक दायित्व है फ़िल्मी अभिनेताओं,खिलाडियों तथा  अन्य सेलिब्रिटीज का ,कि वो इन कम्पनीज के ब्रांड्स का प्रचार न करें ,अपितु स्वयं इनके दुष्प्रभावों को जनता के समक्ष प्रस्तुत करें. इसका उदाहरण फ़िल्मी कलाकार प्राय स्वयं सार्वजनिक स्थानों पर धूम्रपान करके इन नियमों को तोड़ते हैं,उनको कठोर सजा मिले.सार्वजनिक स्थानों पर धूम्रपान करने पर तो कठोरतम प्रतिबंध होना चाहिए और उल्लंघन करने पर सजा का प्रावधान कठोरता से लागू होना चाहिए.सुप्रीम  कोर्ट के निर्देशों के अनुरूप स्वास्थ्य विषयक चेतावनी को सिगरेट के पैकेट पर बड़े बड़े व स्पष्ट रूप से अंकित  कराना.बीडी की पैकिंग में भी परिवर्तन करवाना यद्यपि दुर्भाग्य से बीडी का सेवन करने वाले अधिकांश लोग तो पढ़ना भी नहीं जानते,परन्तु रोगों की विभीषिका  की जानकारी के रूप में चित्र छपवाए जा सकते हैं.

सबसे बेहतर तो यही होगा कि कम से कम बच्चों को तो पूर्ण रूप से इस जहर से दूर रखा जाय.उनको बेचने पर दुकानदारों पर प्रतिबंध कठोरता से लागू हो.पाठ्यक्रमों में ऐसे कुछ अनिवार्य रूप से पढाये जाने वाले अध्याय अवश्य हों और उनसे सम्बन्धित परीक्षा तथा कुछ प्रोजेक्ट्स आदि बनवाए जाएँ. कोर्ट की व्यवस्था के अनुसार विद्यालयों के आसपास इनकी दुकानें न हों. बच्चों को बेचने पर प्रतिबंध कड़ाई से लागू हो.कुछ गुटखे निर्माता प्रचार करते हैं कि उनके पानमसाले में तम्बाखू नहीं है,परन्तु फिर भी उनमें तम्बाखू रहता है,उनपर प्रतिबंध लगाया जाय .और पूर्ण प्रतिबंध लगाना तो सोने में सुहागे का काम करेगा.

इन सबसे महत्वपूर्ण है,माता पिता द्वारा बच्चों का ध्यान रखना.स्वयं पर नियंत्रण रखना.जब घर बैठकर माता-पिता बच्चों से सिगरेट और गुटखे खरीदने को कहेंगें  तो बच्चों को क्या कह कर रोकेंगें.अपना उदाहरण तो बच्चों के समक्ष रखना जरूरी है.प्राय जो किशोर सिगरेट या गुटखे आदि का सेवन करते हैं वो अपनी दुर्गन्ध को रोकने के लिए परफ्यूम,डीयो तथा अन्य सुगन्धित वस्तुओं का प्रयोग करते हैं,अगर कभी ऐसा लगे तो सावधान होना जरूरी है.साथ ही यदि परिवार में कोई भी सेवक आदि इसका प्रयोग करता हो तो उसको समझाना प्रभावकारी होता है. यह कोई असंभव कार्य नहीं बस दृष्टिकोण सबसे महत्वपूर्ण है, (व्यक्तिगत मेरा अपना उदाहरण है जो प्रयास करने पर चार लोगों ने  तम्बाखू का प्रयोग  छोड़ दिया है.यद्यपि कुछ ऐसे भी हैं जिनकी सिगरेट नहीं छुडा सकी, साहस नहीं छोड़ा और प्रयासरत  हूँ) वास्तव में तो प्रधान है  इच्छा शक्ति  जिसके बलबूते पर इसके प्रयोग को छोडना संभव है ,तो आज देरी क्यों इस तम्बाखू निषेध दिवस पर यही बीड़ा उठाइए और अपने स्वयं,अपने परिजनों,मित्रों और सेवकों आदि को प्रेरित करिये अपने मूल्यवान जीवन की रक्षा के लिए.

पूर्व प्रकाशित पोस्ट के माध्यम से जनजागृति का प्रयास



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

11 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

sadguruji के द्वारा
June 5, 2016

आदरणीया निशा मित्तल जी ! नशा छोड़ने की प्रेरणा देने वाला बहुत विचारणीय ब्लॉग ! यह आज भी सामयिक और प्रासंगिक है ! हम लोग भी अपने आश्रम और मिशन के माध्यम से लोंगो को पान, बीड़ी, सिगरेट, तम्बाकू, गुटका, मांसाहार, शराब और जुआ आदि छोड़ने की हमेशा प्रेरणा देते हैं ! अनगिनत लोंगो ने छोड़ा भी है ! सर्वोत्तम प्रस्तुति हेतु सादर आभार !

nishamittal के द्वारा
June 3, 2016

सिंह साहब नमस्कार ,आदरणीय कुशवाह जी का उदाहरण बहुत प्रेरक है,निश्चित रूप से इच्छाशक्ति का प्रमाण,उनको बधाई मैं पहले भी दे चुकी हूँ.आपका आभार

    nishamittal के द्वारा
    June 3, 2016

    आभार आपका ,कृपया सूचना मेल पर देने का कष्ट किया करें ,क्योंकि प्राय मेरी जागरण साईट खुलती नही अतः आपका सन्देश कल देख नही सकी

harirawat के द्वारा
June 2, 2016

निशाजी , नमस्कार ! आपने बीड़ी सिगरेट , पान तम्बाकू मशाले और अन्य नशीली वस्तुओं पर प्रतिबन्ध लगाने और देश की युवा पीढ़ी को मार्ग दर्शन समबन्धित लेख लिखकर कहियों की सुपत पडी आत्मा को जगा दिया है ! मैं सुबह सुबह पार्क में जाता हूँ, वहां बहुत से सर फिरे सिगरेट बीड़ी पीते मिलते हैं ! एक दिन १२ घंटे ड्यूटी देने वाले गार्ड से मैंने पूछा की “अगर तुम जितने बीड़ी पी जाते हो उतने ही पैसों का फल अपने नन्हें बच्चों को खिलाएगा तो उन्हें कैसे लगेगा” ? बोला सर, अगर बीड़ी नहीं पियूँगा तो १२ घंटे की ड्यूटी नहीं दे पाउँगा, रात को सो जाउङ्गा और पगार से भी हाथ धो बैठूंगा ! समाज को जगाने का आपके प्रयस्स को मैं सलूट करता हूँ ! जागते रहो !

    nishamittal के द्वारा
    June 3, 2016

    रावत साहब ,आपका बहुत बहुत आभार ,हम केवल प्रेरित कर सकते हैं ,शेष इच्छाशक्ति की दृढ़ता ही किसी भी व्यसन से मुक्त करा सकती है.मैं भी सदा प्रयास करती हूँ की जागरूक कर सकूँ ,परन्तु सुनना ,और व्यहार में लाना तो व्यक्ति खुद ही कर सकता है

rameshagarwal के द्वारा
May 31, 2016

जय श्री राम निशा जी इतने अच्छे और सार्थक लेख के लिए बधाई ऍसरकार को इस तरह के सब पदार्थो और विज्ञापनों पर प्रतिबंधित कर देना चाइये .क्या मज़ा आता पहले पैसा खर्च लकारो इन चीजो की आतातो में फिर  बेमारी में खर्चे के लिए और खुद के साथ परिवार के लोगो को भी कष्ट .जितना पैसा सरकार को ड्यूटी से मिलता उससे ज्यादा स्वस्थ्य सेवाओ में खर्च हो जाता उसके साथ कितने परिवार नष्ट हो जाते.इन सबको पुरी तरह बंद कर देना चाइये ये व्यक्तिगत स्वतंत्रता का मामला नहीं  लेख के लिए साधुवाद.

    nishamittal के द्वारा
    May 31, 2016

    आपका हार्दिक आभार आदरनीय अग्रवाल साहब

Shobha के द्वारा
May 30, 2016

प्रिय निशा जी हेडिंग में ही सब कुछ आपने कह दिया मेरे पति डाक्टर हैं उनका भांजा आईआईटी में उच्च पद पर आसीन थे सिगरेट की आदत थी उनको जब भी मेरे पति देखते थे डांटते थे वह कहते अरे मामा कुछ नहीं होगा उन्हें कैंसर हुआ व्हील चेयर पर आ गये जब प्रसिद्धीके आसमान में थे चल बसे मेरे पति ने क्लिनिक में कैंसर के पोस्टर लगायें हैं पूरी कोशिश करते हैं तम्बाकू खाने वालों समझाते है असर कुछ पर ही होता है | बहुत अच्छा लेख आप जब भी लिखती हैं बहुत अच्छा विषय लेती हैं काश आपका लेख पढ़ कर कुछ पाठक सिगरेट या तम्बाकू खाते हैं उन पर असर हो जाए होता अवश्य है |

    nishamittal के द्वारा
    May 30, 2016

    हार्दिक आभार सर्वप्रथम आपका ,सच में कृतज्ञ हूँ मैं आपका स्नेह सदा मुझको मेरी पोस्ट पर मिलता है,जबकि मैं नियमित रूप से नहीं आ पाती.कुछ व्यस्तता ,औरकुछ पता नहीं प्राय मेरी जागरण साइट नहीं खुलती ,इसी माह मुझको १ मई श्रमिक दिवस और १० मई क्रान्ति पर पोस्ट डालनी थी पर साइट न खुलने से संभव नहीं हुआ. आपके पतिदेव के सराहनीय प्रयास के लिए आप मेरी ओर से उनको बधाई दीजिये.मैं भी टोकती हूँ,समझाती हूँ इन व्याधियों तम्बाखू सेवन से पीड़ित लोगों को ,सौभाग्य से ४ लोगों ने छोड़ा भी है पर न जाने कितने ऐसे हैं,जिन्होंने नहीं सुना ,खैर प्रयासरत सदा रहूंगी .पुनः आभार आपका

    jlsingh के द्वारा
    June 3, 2016

    आदरणीया निशा महोदया, सादर अभिवादन! आपको याद होगा, प्रदीप कुमार सिंह कुशवाहा पहले नियमित जगर पर लिखते थे टिप्पणी भी देते थे, उन्होंने आपकी प्रेरणा से सिगरेट पीना छोड़ दिया है. उन्होंने इसकी घोषणा फेसबुक पर भी की थी. शायद २०१३ से ही सिगरेट पीना छोड़ चुके हैं. उनकी पत्नी भी उन्हें छुड़ाने का हर सम्भव प्रयास करती थीं. मैंने देखा है, हमारे कई मित्र अपनी पत्नी या बेटी के डर से ही सिगरेट छोड़ पाये हैं. मई ऐसे लोगों को भी जानता हूँ की पति के सिगरेट पीने से पत्नी को कैंसर हुआ. वो कहते हैं न की एक्टिव स्मोकिंग से ज्यादा पैसिव स्मोकिंग खतरनाक है. आप हमेशा प्रेरणादायी आलेख लिखती हैं फेसबुक पर भी आपके सन्देश सार्थक ए प्रेरणादायी होते हैं. सादर!


topic of the week



latest from jagran